कांग्रेस-डीएमके समर्थकों ने PM मोदी के 75 वर्षीय फैन की पीट-पीट कर हत्या कर दी?

0
19
75-year-old-modi-fan-dies-after-being-beaten-up-by-dmk-congress-supporter

तमिलनाडु में 75 वर्षीय बुजुर्ग की मौत की वजह प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा के प्रचार और समर्थन को बताई जा रही है। कहा जा रहा है कि प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा के प्रचार के कारण डीएमके-कांग्रेस समर्थकों ने बुजुर्ग पर कथित हमला किया। इस खबर को देश के कई प्रतिष्ठित समाचार पत्रों और न्यूज पोर्टल ने कवर किया है। लेकिन, इस खबर की सच्चाई कुछ और ही है।

समाचार रिपोर्टों के अनुसार, 75 वर्षीय व्यक्ति गोविंदराजन पर डीएमके-कांग्रेस गठबंधन के “संदिग्ध समर्थकों” द्वारा शनिवार, 13 अप्रैल को हमला किया गया था, वो उस वक्त तंजावुर जिले के ओरथानडु में पीएम मोदी के लिए वोट मांग रहे थे।



समाचार एजेंसी पीटीआई ने पुलिस के हवाले से बताया कि आरोपी गोपीनाथ ने कथित रूप से गोविंदराजन पर गुस्से में हमला किया, जिसके बाद 75 वर्षीय बुजुर्ग व्यक्ति जमीन पर गिर गये और उनकी मौके पर ही मौत हो गई। इस खबर को ट्विटर पर खुब शेयर किया गया था, जिसमें कई लोगों ने इसे ‘असहिष्णुता’ की संज्ञा दी।

खबर की सच्चाई क्या है?

जैसा की हम ऊपर बता चुके हैं कि कई मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि गोविंदराजन पर इसलिए हमला हुआ था क्योंकि वो पीएम मोदी का समर्थन कर रहे थे। लेकिन, ओरथानाडू की स्थानीय पुलिस के मुताबिक इस हमले की सच्चाई कुछ और है।



ओरथानाडू के डीएसपी कामराजार के मुताबिक, “गोविंदराजन मानसिक रूप से अस्थिर थे। जब आरोपी ने उन्हें चांटा मारा वो खुद से बातें कर रहे थे। आरोपी को लगा की गोविंदराजन उसे कुछ गलत बोल रहे हैं और उसे कोई अपमानजनक बात कही। इसी बात पर गोविंदराज ने आरोपी को खुद से दूर हटने के लिए कहा। लेकिन, आरोपी 75 वर्षीय बुजुर्ग को नीचे धकेलते हुए आगे बढ़ गया।”

गोविंदराजन की मौत कैसे हुई?

जब दोनों के बीच बात बढ़ी तो राहगीरों ने विवाद को रोकना चाहा। लोगों ने गोविंदराजन को सांत्वना दी और उनसे घर जाने के लिए कहा। डीएसपी कामराजार के मुताबिक, “अपने घर जाते समय, गोविंदराजन ढ़केलने से लगी चोट की जांच के लिए स्थानीय अस्पताल गये। हाथापाई की बात सुनकर उनकी बेटी वहां आ गई थी।”

घर जाने के बाद, लगभग 9 बजे उन्होंने रात के खाने में उन्होंने इडली खाई और फिर अपने कमरे में सोने के लिए चले गए। लगभग 45 मिनट बाद, गोविंदराजन के परिवार के सदस्यों ने पाया कि उनका निधन हो गया था। गोविंदराजन की मौत के बाद, पुलिस ने हत्या के संदेह में रविवार, 14 अप्रैल को गोपीनाथ को गिरफ्तार किया। डीएसपी ने कहा कि वर्तमान में वह न्यायिक रिमांड में है और जांच चल रही है।

क्या अभियुक्त डीएमके-कांग्रेस गठबंधन से जुड़ा हुआ था?



यहां तक कि मीडिया के साथ साथ स्थानीय भाजपा नेता और सोशल मीडिया पर यह कहा जा रहा है कि आरोपी ‘डीएमके-कांग्रेस’ समर्थक है। हालांकि, डीएसपी ने इस बात से पूरी तरह इनकार किया है। गोविंदराजन को एआईएडीएमके नेताओं जयललिता और एमजीआर की तस्वीरों के साथ कई बार देखा जा चुका था, और हाल ही में एआईएडीएमके-बीजेपी गठबंधन के कारण, उनकी शर्ट पर पीएम मोदी की तस्वीर थी। जिससे ये बात तो साफ होती है कि गोविंदराजन बीजेपी के समर्थक थे। लेकिन, डीएसपी के मुताबिक, आरोपी गोपीनाथ किसी भी राजनीतिक दल से संबंधित नहीं है। उन्होंने कहा – “आरोपी एक बस ड्राइवर है, वह किसी भी राजनीतिक दल से संबंधित नहीं है।”

कमेंट करेंः

Please enter your comment!
Please enter your name here