UPSEE 2018 : 20000 से ज्यादा है MBA की सीटें, फार्म भरे गए सिर्फ 8775

0
191
upsee-2018-only-8775-mba-applications

नई दिल्ली – ऐसा लगता है जैसे छात्रों में एमबीए को लेकर क्रेज कुछ कम हो गया है। कुछ सालों पहले जहां हर कॉलेज में एमबीए के लिए सीटों से ज्यादा एप्लिकेशन आ रहे थे। तो वहीं अब छात्रों में एमबीए को लेकर उदासीनता नज़र आ रही है। UPSEE 2018 में एमबीए एडमिशन के लिए एक एप्लिकेशन फार्म से तो यही लगता है। दरअसल, डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय के एमबीए और एमसीए कॉलेजों के लिए आगामी शैक्षिक सत्र 2018-19 अच्छा साबित नहीं होने वाला है। इसकी वजह एमबीए के लिए आये कम एप्लिकेशन हैं।

UPSEE 2018 में एमबीए एडमिशन में उदासीनता

UPSEE 2018 में एमबीए एडमिशन में छात्रों में उदासीनता देखने को मिली है। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय के एमबीए और एमसीए कॉलेजों के लिए इस साल बहुत कम एप्लिकेशन आये हैं। एमबीए में तो सीटों के मुकाबले आधे आवेदन भी नहीं आए हैं।

एकेटीयू की ओर से आयोजित एसईई-2018 में आवेदन के लिए अंतिम तारीख 6 अप्रैल थी। एसईई के समन्वयक प्रो. एके कटियार के मुताबिक, आवेदकों की संख्या में कमी के कारण आवेदन शुल्क जमा करने की फीस एक अप्रैल तक के लिए बढ़ा दी गई थी। इसके बावजूद भी सीटों के मुकाबले कम एप्लिकेशन आये हैं।

एमबीए के लिए आये आधे से कम एप्लिकेशन

कॉलेज में एसईई -2018 में कुल 1,49,467 अभ्यर्थियों ने फॉर्म भरे हैं। एकेटीयू के कॉलेजों में बीटेक की सवा लाख से ज्यादा सीटें है लेकिन 1,12,093 छात्रों ने ही रजिस्ट्रेशन कराया है और केवल 1,08,954 अभ्यर्थियों ने फॉर्म भरा है। वहीं बीटेक बायोटेक्नॉलजी में 8077 ने फॉर्म भरा है। हैरान करने वाली बात ये है कि बीटेक कृषि में तो पूरे प्रदेश से 16 अभ्यर्थियों ने ही आवेदन किया है।

आपको बता दें कि एकेटीयू के कॉलेजों में एमबीए की 20000 से अधिक सीटें हैं लेकिन इस साल केवल 8775 अभ्यर्थियों ने ही आवेदन किया है जो साफ दर्शाता है कि एमबीए को लेकर छात्रों में उत्साह कम हो गया है। आपको बता दें कि एमसीए में 2128 ने रजिस्ट्रेशन कराया लेकिन फॉर्म 1906 अभ्यर्थियों ने ही भरा है।

कमेंट करेंः

Please enter your comment!
Please enter your name here