ओमेर्टा: आतंकवादी का किरदार निभाने के लिए किस हद तक गुज़र गए थे राजकुमार राव

0
222
interview-with-rajkumar-rao

‘शाहिद’ और ‘न्यूटन’ जैसे गंभीर विषय पर आधारित फिल्मों में काम कर चुके नेशनल अवॉर्ड विनर राजकुमार राव जल्द ही हमें फिल्म ‘ओमेर्टा’ में नज़र आने वाले हैं। इस फिल्म में वो खूंखार आतंकवादी उमर सईद शेख का किरदार निभाएंगे। आइये देखते हैं राजकुमार राव ने अपनी आने वाली फिल्म के बारे में हमारे साथ हुए इंटरव्यू में क्या कहाः

‘ओमेर्टा’ का मतलब क्या है?

‘ओमेर्टा’ का मतलब ‘कोड ऑफ साइलेंस’ होता है यानी जब आप कुछ न बोलें।

इस कैरक्टर के लिए खुद को तैयार करने में आपको कितना वक्त लगा?

मुझे इसकी तैयारी में काफी वक्त लगा। इस रोल के लिए मुझे दाढ़ी बढ़ानी पड़ी। मैं लंदन गया और वहां आतंकवाद पर लिखी कुछ किताबें पढ़ीं। आतंकवाद पर फिलॉसफी पढ़ी, भाषण सुने, ऑनलाइन वीडियो देखे।

इस कैरक्टर से बाहर आने में कितना वक्त लगा?

बाहर आने में ज्यादा वक्त नहीं लगा। फिल्म की शूटिंग खत्म होते ही मैंने शेव कर लिया। इसके बाद दोस्तों से मिला और कैरेक्टर से बाहर आ गया।

‘ओमेर्टा’ के उमर के किरदार से आपने क्या सीखा?

‘ओमेर्टा’ से मैंने सीखा कि सही रास्ता कैसे चुना जाये। शाहिद और उमर का सफर एक जैसा ही रहा। लेकिन, दोनों ने अलग-अलग रास्ते चुने।

अब आपके लिए क्या करना बाकी रह गया है।

ज्यादा लोगों को ये बात मालूम नहीं है कि मैं ट्रेड मार्शल आर्ट्स आर्टिस्ट हूं। इसलिए अगर को अच्छी कहानी मिले तो मैं काम जरुर करना चाहूंगा।

आपको बता दें कि ओमेर्टा के निर्देशक हंसल मेहता के मुताबिक, यह एक बिना नायक वाली फिल्म है। इस फिल्म का मुख्य किरदार एक बुरा आदमी है। यह फिल्म आतंकवाद या जिहाद का महिमामंडन नहीं करती। बल्कि यह ब्रिटिश आतंकवादी अहमद उमर सईद शेख की जिंदगी पर आधारित है। उमर ने जैश-ए-मुहम्मद, अलकायदा, तालिबान जैसे दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकी संगठनों के लिए काम किया था।

कमेंट करेंः

Please enter your comment!
Please enter your name here