पत्थरबाजी का लेखा-जोखाः साल 2017 में 1261 बार हुई पत्थरबाजी, बुरहान वानी के गृह क्षेत्र में सबसे अधिक

0
166
stone-pelting-incidents-in-the-year-2017

जम्मू और कश्मीर – साल 2017 में जम्मू और कश्मीर में हुई पत्थरबाजी की घटनाओं का लेखा-जोखा सामने आ गया है। आकड़ों के मुताबिक, साल 2017 में पत्थरबाजी की कुल 1261 घटनाएं हुई हैं। पत्थरबाजी की सबसे अधिक घटनाएं भारतीय सेना के साथ मुठभेड़ में मारे गए हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के गृह क्षेत्र पुलवामा में हुई हैं। गौरतलब है कि बुरहान वानी की मौत के बाद से ही पत्थरबाजी की घटनाओं में इजाफा हुआ और यह इलाका सबसे अधिक अशांत रहा।

साल 2017 में पत्थरबाजी की कुल 1261 घटनाएं

बुरहान वानी के गृह क्षेत्र के बाद अलगावादियों के नेता सईद गिलानी के गढ़ सोपोर में सबसे अधिक पत्थरबाजी की घटनाएं हुई। इन आकड़ों को सेना की ओर से जारी किया गया है। राज्य गृह विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक केवल पुलवामा में ही पत्थरबाजी के 91 केस पिछले साल दर्ज किए गए है। वहीं, सोपोर में पत्थरबाजी के 71 केस दर्ज किए गए हैं। आकड़ों के मुताबिक, साल 2017 में पत्थरबाजी की कुल 1261 घटनाएं हुई हैं।

ये है पत्थरबाजी की घटनाओं का लेखा जोखा

साल 2016 में पत्थबाजी की घटनाओं की बात करें तो सोपोर में 500 के करीब पत्थरबाजी की घटनाएं हुईं। लेकिन, बुरहान वानी की मौत के बाद इस मामले में दोगुनी वृद्धी हुई और कश्मीर सबसे अशांत रहा। रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2016 में 2808 और 2015 में पत्थबाजी के 730 मामले दर्ज किए गए। जिले के आकड़ों के मुताबिक, साल 2017 में श्रीनगर में 230, पुलवामा में 131, बारामुला में 129, बडगाम में 98, शोपियां में 67, अनंतनाग में 63, कुलगाम में 50, गांदरबल में 36 और बांदीपोरा में पत्थरबाजी के 34 मामले दर्ज किये गए हैं। पिछले वर्ष पत्थरबाजी के मामलों में 2770 लोग गिरफ्तार किये गए थे। बीते तीन साल में पत्थरबाजी की कुल 4736 घटनाएं हुई हैं, जिनमें सुरक्षाबलों के 11566 जवान घायल हुए हैं।

कमेंट करेंः

Please enter your comment!
Please enter your name here